गीत – सबको मुबारक नया साल, नया साल, ये नया साल, ये नया साल
फ़िल्म – सम्राट (1954)
संगीतकार – हेमन्त कुमार
गीतकार – राजेन्द्र कृष्ण
गायिका – आशा भोंसले (कोरस)

नववर्ष की शुभकामनायें। साल 2017 सबको मुबारक। नये साल के आगमन पर कुछ नववर्ष का स्वागत करते गीतों को याद करें –

फ़िल्मिस्तान के बैनर तले बनी फ़िल्म ‘सम्राट’ ( 1954 ) का गीत ‘ सबको मुबारक नया साल ‘ रेडियो सीलोन पर बरसों बरस नये वर्ष के अवसर पर बजने वाला गीत था । जैसे प्रत्येक मास की पहली तारीख़ को ‘ ख़ुश है ज़माना आज पहली तारीख़ है ‘ गीत नियमित रूप से बजाया जाता था वैसे ही हर साल के आरंभ में राजेन्द्र कृष्ण का लिखा , हेमन्तदा का स्वरबद्ध किया और आशा भोंसले का गाया गाना ‘ सबको मुबारक नया साल ‘ रेडियो सीलोन पर साल दर साल बजना अनिवार्य सा था । फ़िल्म ‘ सम्राट ‘ के निर्देशक नज़म नक़वी थे तथा प्रमुख सितारे थे – अजीत , रेहाना , सप्रू , राजन हक्सर , कमलेश कुमारी और मुमताज़ अली ( महमूद के पिता )। 1986 की फ़िल्म ‘ आप के साथ ‘ ( अनिल कपूर , स्मिता पाटिल , विनोद मेहरा , रति अग्निहोत्री ) में शब्बीर कुमार ने आने वाले साल के स्वागत में कुछ यूँ जाम छलकाया था-

आने वाले साल को सलाम
जाने वाले साल को सलाम
नये साल का पहला जाम
आपके नाम

आनन्द बख़्शी के नशीले बोलों को मद भरी धुन में लक्ष्मीकान्त प्यारेलाल ने बाँधा था। अशोक कुमार , विजयेन्द्र घाटगे , सारिका , नीता मेहता , राज किरण , शक्ति कपूर , अरुणा ईरानी अभिनीत फ़िल्म ‘ नज़राना प्यार का ‘ ( 1980 ) में आशा भोंसले ने अपने बेटे हेमन्त भोंसले के संगीत निर्देशन में अमित कुमार और अनवर के साथ यह गीत गाया था –

नया साल हाय , तमाशे दिखाये ,
किसी को हँसाये , किसी को रुलाये .
(गीतकार – निदा फ़ाज़ली)

फ़िल्म ‘ दो जासूस ‘ ( 1975 ) में राज कपूर और राजेन्द्र कुमार ने शीर्षक भूमिकायें निभाईं थीं । उनके साथ युवा प्रेमी युगल के रूप में गायक शैलेंद्र सिंह और भावना भट्ट थे । रवीन्द्र जैन की धुन पर मुकेश और मोहम्मद रफ़ी ने राज कपूर और राजेन्द्र कुमार के लिये पार्श्वगायन किया था –

साल मुबारक साहब जी
लो आज पियो हँस के
दो घूँट सोमरस के
साल भर इसका नशा रहेगा
जो आज पिये , पीता सदा रहेगा

‘दो जासूस ‘ में नये वर्ष की अगवानी करता शैलेंद्र सिंह और साथियों के स्वर में एक और गीत था –

हैप्पी हैप्पी न्यू इयर टू यू
कल के तराने हुये पुराने
गाओ रे मेरे संग कोई गीत नया
शाम सुहानी , साल गिरानी कहती है हमसे
मुझे कर दो बिदा
हैप्पी हैप्पी न्यू इयर टू यू .

आजकल नोटबन्दी के दिनों में निर्देशक रूप के शोरी की फ़िल्म ‘ मुखड़ा ‘ ( 1951 , कुलदीप , सतीश बत्रा , कुक्कू , मजनू आदि ) का गीत याद आ रहा है जो गीतकार अज़ीज़ कश्मीरी की क़लम से निकला था । संगीतकार थे विनोद और आवाज़ थी मोहम्मद रफ़ी की –

पूछिये ना हाल जी
पल्ले नहीं माल जी
कि बुरा है ये साल जी।

कामना करते हैं कि आने वाला वर्ष आप सबके लिये ढेरों ख़ुशियाँ साथ ले कर आये।

साभार:- श्री रवींद्रनाथ श्रीवास्तव जी।

Comments

About The Author