गीत – सुनो सुनो अय दुनियावालों
बापू की ये अमर कहानी
संगीतकार – हुस्नलाल भगतराम
गीतकार – राजेन्द्र कृष्ण
गायक – मोहम्मद रफी

30 जनवरी 1948 को गांधीजी के निधन के बाद उन्हें श्रद्धांजलि स्वरूप गीतकार राजेन्द्र कृष्ण ने एक लम्बा गीत लिखा था जिसमें बापू की पूरी जीवनी समाहित थी। उस गीत को संगीतकारद्वय हुस्नलाल भगतराम ने मोहम्मद रफी के स्वर में रिकार्ड कराया था। उन दिनों 78 RPM के शेलॉक रिकार्ड ( shellac records ) बना करते थे। शेलॉक उस पदार्थ / मटेरियल का नाम है जिससे रिकार्ड निर्मित होते थे अतएव उन्हें शेलॉक रिकार्ड कहा जाता था। उन रिकार्ड्स में एक ओर अधिकतम 3 मिनट 20 सेकेण्ड की अवधि का गीत आ सकता था । ‘ बापू की अमर कहानी ‘ वाला गीत 12 मिनट से भी कुछ अधिक अवधि का था। इस कारण यह गीत चार भाग में रिलीज़ किया गया था । अपने समय में यह हृदयस्पर्शी ग़ैरफ़िल्मी गीत अत्यन्त लोकप्रिय हुआ था।

1948 के स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर मोहम्मद रफी ने तत्कालीन प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के निवास पर यह गीत सुनाया था । गीत सुन कर पंडित नेहरू अभिभूत हो गये थे एवं उन्होंने मोहम्मद रफी को एक गोल्ड मेडल भेंट किया था।

साभार:- श्री रवींद्रनाथ श्रीवास्तव जी।

Comments

About The Author