https://www.youtube.com/watch?v=Xa_gK7yOU1c&app=desktop

गीत – मुझे हुज़ूर तुमसे प्यार है
तुम्हीं पे ज़िन्दगी निसार है
फ़िल्म – सन आॅफ इण्डिया (1962)
संगीतकार – नौशाद
गीतकार – शकील बदायूंनी
गायिका – गीतादत्त

फ़िल्म – ‘मदर इंडिया‘ में सुनील दत्त के बचपन की भूमिका बाल कलाकार साजिद ने निभाई थी। उस प्यारे, नटखट, शरारती बच्चे ने सबका दिल मोह लिया था। साजिद की प्रतिभा से महबूब खान साहब इतने प्रभावित हुये थे कि उन्होंने उस बच्चे को गोद ले लिया था। फिर महबूब खान ने अपने दत्तक पुत्र साजिद खान को केन्द्रीय भूमिका में ले कर फ़िल्म ‘सन आॅफ इण्डिया’ का निर्माण किया। यह निर्माता , निर्देशक महबूब खान की अंतिम फ़िल्म थी। ‘मदर इंडिया’ के बाद रंगीन और सिनेमास्कोप में बनी उनकी यह महत्वाकांक्षी फ़िल्म बाक्स आफिस पर असफल रही।

‘सन आॅफ इंडिया’ में साजिद के साथ कुमकुम, कमलजीत (शशि रेखी जिन्होंने आगे चल कर ‘शगुन‘ फ़िल्म में वहीदा रहमान के साथ नायक की भूमिका निभाई और वास्तविक ज़िन्दगी में भी उनके पति बने) और जयंत (अमजद खां उर्फ़ गब्बर सिंह के पिता) प्रमुख भूमिकाओं में थे। अभिनेत्री सिमी ग्रेवाल की यह पहली हिन्दी फ़िल्म थी जिसमें पर्दे पर उनका नाम ‘इट्रोड्यूसिंग सिमी बख्तावर‘ आता है। उन्हीं दिनों उन्होंने अंग्रेज़ी फ़िल्म ‘टारज़न गोज़ टू इंडिया‘ में फ़िरोज़ खान के साथ भी काम किया था।

साजिद खान ने आगे चल कर एक अंग्रेज़ी फ़िल्म ‘माया‘ में काम किया जो बाद में एक सफल टी वी सीरियल भी बनी। ‘हीट एंड डस्ट‘ (अंग्रेज़ी), ज़िन्दगी और तूफ़ान (रेहाना सुल्तान, योगिता बाली) , सबेरा (रेहाना सुल्तान) , मंदिर मस्जिद आदि फ़िल्मों में उन्होंने वयस्क भूमिकायें निभाईं लेकिन उन्हें कोई उल्लेखनीय सफलता नहीं मिली। संगीतकार नौशाद और गायिका गीतादत्त हिन्दी फ़िल्म जगत के दो जानेमाने नाम हैं। दोनों का सफल कैरियर लम्बे समय तक (दो दशक से ज़्यादा) समानान्तर रूप से एक कालखंड में चलता रहा। कितने अचरज की बात है है कि इन दो महान हस्तियों का संयुक्त काम केवल दो गीतों में सिमटा हुआ है। नौशाद ने ‘दिल्लगी’ (1949) फ़िल्म का एक टैण्डम सांग गीता राय (दत्त ) से गवाया था-

‘तू मेरा चाँद मैं तेरी चाँदनी, नहीं दिल का लगाना कोई दिल्लगी ‘

इस गीत का दूसरा पहलू सुरैया और शाम कुमार की आवाज़ों में था । सुरैया वाले वर्शन को प्रमुखता से प्रचारित प्रसारित किया गया । दूसरी तरफ़ गीता राय ( दत्त ) के गाये गीत का रिकार्ड भी रिलीज़ नहीं किया गया था। दूसरी बार गीतादत्त ने नौशाद के संगीत निर्देशन में फ़िल्म ‘ सन आॅफ इण्डिया ‘ में एक सोलो गीत गाया जो अभिनेत्री लिलियन पर फ़िल्माया गया था – “मुझे हुज़ूर तुमसे प्यार है, तुम्हीं पे ज़िन्दगी निसार है।”

साभार:- श्री रवींद्रनाथ श्रीवास्तव जी।

Comments

Leave a comment